शेफ शिप्रा….एक परिचय

शेफ शिप्रा (#chefshipra) एक बहुत ही अग्रणी और श्रेष्ठ ब्लॉग है जो की आप को विभिन्न प्रकार के व्यंजनों की रेसिपीज हिंदी में उपलब्ध करता है। इस ब्लॉग को शेफ शिप्रा द्वारा चलाया जा रहा है, जो की एक बहुत ही उम्दा और कुशल शेफ हैं। इनका नाम किसी परिचय का मोहताज़ नहीं है। जैसा की हम सभी ये जानते हैं की खाना सबसे पहले आँखों से खाया जाता है इसलिए हम यहाँ आपको बताते हैं की किस तरह आप अपने साधारण से बनने वाले खाने को भी स्वादिष्ट और लज़ीज़ बना सकते हैं।

 

इस ब्लॉग पर हम आपको न सिर्फ भारतीय व्यंजनों के बारे में बताते हैं अपितु देश विदेश के मशहूर व्यंजनों की जानकारी भी उपलब्ध करते है। इससे हमे दूसरे देश की संस्कृति और विविधता की झलक भी मिलती है।

 

इस ब्लॉग पर हम आपको नाश्ता, स्नैक्स, बेवरेजेज, आचार, चटनी, सलाद, रायता, तंदूरी रेसिपी, परांठे, करी, पुलाव, मिठाई तथा व्रत उपवास की ढेरों रेसिपी साझा करते हैं। साथ ही हम आपको किचन की कुछ टिप्स भी देते हैं जिसके द्वारा आप अपनी रेसिपी को और जायकेदार बना सकते हैं।

 

कैसा होता है एल्युमीनियम और लोहे के बर्तनो में भोजन करना

कैसा होता है एल्युमीनियम और लोहे के बर्तनो में भोजन करना

Spread the love

हम लोग विभिन्न प्रकार के बर्तनो में खाना खाते हैं। पर क्या आप जानते हैं की कैसा होता है एल्युमीनियम और लोहे के बर्तनो में भोजन करना। तो आइये शुरू करते हैं।

एलुमिनियम के बर्तन

आज भी एलुमिनियम के बर्तनो में खाना बनाया और खाया जाता है। अब आप कहेंगे की हम तो अपने घर में एल्युमीनियम के बर्तन इस्तेमाल नहीं करते। तो आपकी जानकारी के लिए बता दें जो आपके घर में प्रेशर कुकर होता है वो एल्युमीनियम का ही होता है। एल्युमीनियम के बर्तनो में बने खाने से खाने में से पौषक तत्व नष्ट हो जाते हैं। इसके अलावा कई तरह की बीमारियां भी होती है।



लोहे के बर्तन

अगर आप लोहे के बर्तनो में खाना खाते हैं तो ये अधिक गुणकारी नहीं होता है। ऐसे बर्तनो में खाना खाने से आपको आयरन को खूब मिलता है। परन्तु आपकी बुद्धि का विकास नहीं हो पाता। हाँ पीलिये के रोग की समस्या से जरूर निजात मिल जाती है।

यदि आपको ये जानकारी अच्छी लगी हो या आप ऐसी ही और किसी जानकारी या विभिन्न रेसिपी के बारें में जानना चाहते हों तो आप कृपया मुझे फॉलो करें ताकि आपको इसी प्रकार की जानकारी तथा रेसिपी मिलती रहे।

No Comments

Leave a Comment: